Directorate General of Training (DGT)

भारत सरकार

वामपंथी उग्रवाद से प्रभावित 34 जिलों में कौशल विकास

योजना वामपंथी उग्रवाद (एलडब्ल्यूई) से प्रभावित जिलों के लोगों के समीपस्थ 34 जिलों में कौशल विकास ढाँचे का सृजन करने के लिए 2011 में बनाई गई थी। योजना का उद्देश्य एक ओर जहां 34 जिलों में से प्रत्येक में एक आईटीआई और दो कौशल विकास केंद्र (एसडीसी) की स्थापना करना और इन क्षेत्रों में तथा आस-पासअर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों की कुशल जनशक्ति की आवश्यकता को पूरा करने के लिए दीर्घावधिक एवं अल्पावधिक-दोनों प्रकार के मांग प्रेरित व्यावसायिक प्रशिक्षण पाठ्यक्रम चलाना है, तो वहीं दूसरी ओर युवाओं को आजीविका के श्रेष्ठ अवसर प्रदान करना है। योजना की लागत 241.65 करोड़ रुपए है।

योजना में प्रति जिला 30 की दर से दीर्घावधि प्रशिक्षण में 1000 युवाओं के लिए प्रति जिला 120 की दर से अल्पावधि में 4000 युवाओं के लिए तथा प्रति जिला 10 की दर से अनुदेशक प्रशिक्षण में 340 युवाओं को प्रशिक्षित करने के लिए कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रमों की सुविधा प्रदान की जाती है।

इसके अलावा प्रति जिला एक आईटीआई की दर से 34 औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों तथा प्रति जिला दो एसडीसीज की दर से 68 कौशल विकास केंद्र (एसडीसीज) के लिए बुनियादी ढांचे का सृजन किया जाएगा।

अधिक विस्तार के लिए यहां क्लिक करें   77.21 KB

अंतिम नवीनीकृत : 12-06-2014